Tuesday, December 25, 2018

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय में.......





क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय  में.......

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय  में.......

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय  में.......

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय में.......

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय  में.......

क्यों बन सुधि तुम समाए ह्रदय  में.......



48 comments:

  1. हृदयस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद नीरज जी ।

      Delete
  2. बेहतरीन लेखन, उत्कृष्ट रचना... हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार आदरणीय पुरूषोत्तम जी।

      Delete
  3. दिल को छूती बहुत सुंदर रचना,दीपशिखा दी। इतनी भारी भारी शब्दों में रचना करना वा व्व आपकी कल्पनाशक्ति का जबाब नहीं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार प्रिय ज्योति जी।

      Delete
  4. अप्रतिम... वाहहह... लाज़वाब अभिव्यक्ति दीपा जी..बहुत सुंदर लेखन..बधाई इस बेहतरीन सृजन के लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरहनीय शब्दों के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीया श्वेता जी।

      Delete
  5. वाह बहुत सुन्दर!!
    श्रृंगार रस का सुमधुर राग गाया आपने। बहुत प्यारी रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीया कुसुम जी।

      Delete
  6. वाह !बहुत सुन्दर रचना सखी 👌
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार सखी ।

      Delete
  7. ये जीवन है अबट कुछ होता है कुछ नहि भी होता ... पर चक्र है जो चलता रहता है ...
    सार्थक रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद अदरणीय दिगम्बर जी ।

      Delete
  8. बहुत सुन्दर कविता :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सचिन जी

      Delete
  9. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीया।

      Delete
  10. कविता के बोल हृदय के तल पर कहीं पैठ गए हैं और मेरी वाणी मूक हो गई है । न जाने कितने विरहियों और विरहणियों के मन की पीड़ा की प्रतिध्वनि है इसमें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय माथुर जी सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार । निसन्देह: अपके द्वारा प्रशंसा में कहे गये चंद शब्दों से मुझे बहुत प्रोत्साहन मिलता है।

      Delete
  11. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2018) को "नव वर्ष कैसा हो " (चर्चा अंक-3199)) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री जी।

      Delete
  12. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २७ दिसंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीया श्वेता जी।

      Delete
  13. लाजबाब ..............

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद ।

      Delete
  14. प्रेम हम से क्या क्या नहीं करवाता
    जो ना करवा सका कोई वो करवाता।

    अद्भुत

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद।

      Delete
  15. वाह वाह ! अति सुन्दर एवं हृदयग्राही ! बहुत प्यारी रचना !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय साधना जी।

      Delete
  16. वाह! बेहद खूबसूरत ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद।

      Delete
  17. प्रिय दीपशिखा जी,
    बहुत सुन्दर रचना... मन को छू गया यह विरह गीत ।
    शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर लिखती हैं आप ! <3

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद संगीता जी।

      Delete
  19. वाह
    बहुत सुंदर सृजन
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीय।

      Delete

ओ पाहुन.....