Friday, June 12, 2020

ओ पाहुन.....






35 comments:

  1. अप्रतिम...प्रेम का अनहद नाद।
    बहुत दिनों बाद आपकी रचना पढ़ने मिली दीपा जी मन प्रसन्न हुआ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीया श्वेता जी ।

      Delete

  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१३-0६-२०२०) को 'पत्थरों का स्रोत'(चर्चा अंक-३७३१) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद सखी ।

      Delete
  3. बहुत सुंदर अभिसार गीत! बधाई और आभार!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार सर ।

      Delete
  4. बहुत सुन्दर और भावप्रवण।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय डॉ साहब ।

      Delete
  5. आपकी रचनाएं अद्भुत होती हैं दीपशिखा जी । इनके शब्दों को पढ़ लेना ही पर्याप्त नहीं होता । इनके तो अक्षर-अक्षर को अनुभूत करना होता है जिसके उपरान्त वे किसी भावुक हृदय की गहनता में जाकर ओझल हो जाते हैं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय माथुर जी । सर आपकी प्रतिक्रिया व सराहना के लिए आपका हार्दिक आभार । निसन्देह आपके द्वारा की गई हर टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन करती है ।

      Delete
  6. सच कहा है सभी ने बहुत ही सुंदर रचना है, बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्स्नेह आभार ।

      Delete
  7. भावपूर्ण अप्रितम लेखन दीपा जी | मधुर सुकोमल शब्दावली बहुत मनमोहक है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद प्रिय रेणु जी ।

      Delete
  8. Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद ।

      Delete
  9. बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद प्रिय ज्योति ।

      Delete
  10. बहुत सुंदर और भावपूर्ण रचना ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर रचनाए है आपकी
    हाल ही में मैंने ब्लॉगर ज्वाइन किया है आपसे निवेदन है कि आप मेरे ब्लॉग पढ़े और मुझे सही दिशा निर्देश दे
    https://poetrykrishna.blogspot.com/?m=1
    Dhnyawad

    ReplyDelete
    Replies
    1. sure dear..I wish you all the best.

      Delete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. पाहुन से मनप्राण संवाद ... क्या बात है दीपा जी... बहुत खूब

    ReplyDelete
  14. गजब की रचना
    आपका पोस्ट लगाने का अंदाज बेहद अनोखा और लाजवाब है.
    मीनिंग बताने वाली बात भी बहुत खूब है. पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.

    मैंने ऐसे विषय पर; जो आज की जरूरत है एक नया ब्लॉग बनाया है. कृपया आप एक बार जरुर आयें. ब्लॉग का लिंक यहाँ साँझा कर रहा हूँ-
    नया ब्लॉग नई रचना
    ब्लॉग अच्छा लगे तो फॉलो जरुर करना ताकि आपको नई पोस्ट की जानकारी मिलती रहे.

    ReplyDelete
  15. Wow kya post likha hai aapne bahut acha lga aapka ye Post

    science, technology computer ki knowledge ke liye vigyantk.com pr jarur aaye

    ReplyDelete
  16. bhojpuri si mithas hai is rachna me

    ReplyDelete
  17. Jude hmare sath apni kavita ko online profile bnake logo ke beech share kre
    Pub Dials aur agr aap book publish krana chahte hai aaj hi hmare publishing consultant se baat krein Online Book Publishers



    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  19. भावपूर्ण नवयुगीन सृजन !

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete

ओ पाहुन.....