Wednesday, November 28, 2018

पदचाप









28 comments:

  1. वाह !!बहुत ख़ूब सखी👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह धन्यवाद सखी।

      Delete
  2. विरह निशि के बाद, मधुर मिलन अब पास है....
    आपकी लिखी पंक्तियाँ और मनोहारी प्रस्तुति की जितनी भी तारीफ़ करूँ कम होगी। आप अत्यंत ही सफल लेखिका के रूप में उभरें यही कामना है। बहुत-बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभकामनाओं के लिए स्स्नेह धन्यवाद पुरषोत्तम जी।

      Delete
  3. Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीय जोशी जी।

      Delete
  4. बहुत ही बेहतरीन रचना दीपशिखा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद अनुराधा जी

      Delete
  5. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. सभार धन्यवाद अभिलाषा जी।

      Delete
  6. बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीया मीना जी।

      Delete
  7. बहुत सुंदर दीपशिखा जी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्स्नेह धन्यवाद नीरज।

      Delete
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (30-11-2018) को "धर्म रहा दम तोड़" (चर्चा अंक-3171) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies

    1. डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री जी लिकं की चर्चा के 3171 अंक में मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार।

      Delete
  9. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार 30 नवंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्वेता जी मेरी रचना को अपने ब्लॉग "पांच लिंकों का आनंद" में स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार।

      Delete
  10. बहुत सुंदर रचना, दीपशिखा दी।

    ReplyDelete
  11. वाह!!बहुत सुंदर !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद

      Delete
  12. अलग अंदाज की अदायगी सुंदर शब्द संयोजन अप्रतिम अवगूंठन।
    बहुत प्यारी रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद कुसुम जी |

      Delete
  13. बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद लोकेश जी

      Delete
  14. मिलन की आकांक्षा को संजोये प्रतीक्षित मन की व्याकुलता को सजीवता से दर्शाती मार्मिक रचना प्रिय दीपा जी | सस्नेह बधाई और शुभकामनायें |

    ReplyDelete
    Replies
    1. साभार धन्यवाद आदरणीया रेनू जी।

      Delete

ओ पाहुन.....