अल्प विराम

Friday, February 09, 2007

माँ


जीवन वन में स्‍वच्‍छंद सुमन सी
अंबर चुंबी हिमश्रृंगों सी
विधुत की प्राणमयी धारा सी
माँ गंगा की निर्मल काया सी
स्‍नेहमयी घन अम्‍बर जैसी
ममतामयी शीतल समीर सी
विशाल हृदयी अथाह सागर जैसी
माँ की छवी परम पावन सी

भौर की प्रथम उज्‍जवल किरण सी
सघन धूप में छाँव सी
गोधुली में दीपक जैसी
माँ निशापथ में तारक सी

भाषा में स्‍वर व्‍यंजन जैसी
गीतों में सुर ताल सी
वीणा के मधुर सुरों सी
माँ मुरली की तान सी

वेदों के ज्ञान जैसी
गीता के सार सी
गुरमुख की वाणी जैसी
माँ काबा काशी सी
चिर सखी राधा जैसी
पथ दृष्‍टा सुरदर्शन सी
देव सृष्‍टि की प्रतिकृति सी
माँ महातरु छाया सी
श्रद्धा की परिभाषा जैसी
जीवन का विश्‍वास सी
घरा के घैर्य का प्रतिरुप सी
माँ स्‍‍र्वज्ञय ज्ञाता सी
हृदय में स्‍पंदन जैसी
श्‍वास निश्‍वास के बंधन
रोम रोम में रुधिर सरिखी
माँ परम कल्‍याणी सी
देवालय की अनुपम मुरत सी
गिरजा घर की सुखद शान्‍ति सी
पारस सी शक्‍ति धारणी
माँ तुम ही परमेश्‍वर हो
माँ तुम ही परमेश्‍वर हो

5 Comments:

  • At 3:57 PM, Blogger Chaitannya said…

    अनुपम ! प्रतिमाओंकी ऐसी कसिदाकारी बहुत दिनों बाद पढने में आई. वरना आजकल तो '१९४२'का 'एक लड़की को..' सुनकर ही काम चला लेते हैं. :)

     
  • At 9:18 AM, Blogger DR M. R. JAIN said…

    Very touching, most appropriate words used with great discretion and precision.
    Bahut achi lagi aapki kavita.
    Thanks
    M. R.

     
  • At 7:29 AM, Blogger मोहिन्दर कुमार said…

    Very nicely written with typical hindi.......heart touching.....keep it up

     
  • At 8:49 PM, Blogger Tarun Chandel said…

    Hi

    I am Tarun here, I am planning a Blogcamp in India (Pune), if possible try to make it to it, if not then do try to participate through internet, using Youtube, Slideshare etc.

    I have found few other guys who are also very enthusiastic about having a Blogcamp. We are already in process of contacting some good bloggers like you and others on Blogosphere.

    The venue will be SCIT Pune (Symbiosis Center for IT). We are already talking to a few people to sponsor food, tshirts and goodies. But all these things are secondary. Success of a Blogcamp is dependent upon it's participants and that is where we are focusing right now.

    Do share you thoughts on it.

    You can visit our wiki (http://barcamp.org/BlogCampPune).
    We also have our blog ( www.blogcamppune.blogspot.com)

    Regards,
    Tarun Chandel
    http://tarunchandel.blogspot.com

    PS: I know this is not the right place to put this invitation, but I was not able to find your email id.

     
  • At 11:33 PM, Blogger Ravi said…

    bahut achi kavita hai aur bahut hi badiya command hai apka words par. nicely woven. gr8 work

     

Post a Comment

<< Home